Monday, August 1, 2016

Woh Bhi / वह भी

Woh bhi kya din they…..
Fizaon mein pyaar ki surkhiyaan thi 
Zindagi kay nashe mein hum dhut they
Per tere nashe mein they hum pure hosh mein

Woh bhi kya lamhe they….
Nazron mein shaitani thi
Jawab kam per sawaal khoob they
Lekin tumhari khamoshiyon mein they jawab saare

Woh bhi kya aashiq they….
Shafqat mein shidat thi
Bhari mehfil mein bin tere begaane hum they
Per jab sung ho to veerane ki fazaa bhi ho jati mehfilana



वह भी क्या दिन थे 
फिज़ाओं में प्यार की सुर्खियां थी 
ज़िन्दगी के नशे में हम धुत थे 
पर तेरे नशे में थे हम पुरे होश में

वह भी क्या लम्हे थे 
नज़रों में शैतानी थी
जवाब कम पर सवाल खूब थे 
लेकिन तुम्हारी खामोशियों में थे जवाब सारे 

वह भी क्या आशिक़ थे 
शफकत में शिदत्त थी 
भरी महफ़िल में बिन तेरे हम  बेगाने थे
पर जब संग हो तो वीराने की फज़ा भी जाती मैहफिलाना 

1 comment :

  1. Too good. Is it latest edition? I know it is dedicated to Sonika

    ReplyDelete

 

Myriad Ramblings

© 2013; Aakaash Sehgal:

(Dashboard)