Tuesday, October 13, 2015

Aashiyana - आशियाना

Daraaron mein barson se bhari mein aur tum ki kai
bhranti ki deemak stambon ko andar se khokhla kar rahi
ahankaar gahari jadein kar baitha beech dewaron mein
dehleez ko tod diya vipul apekshaon ki thokar ne
gussa ban ke aandhi tod gaya jharonkon ko
aur bill bana kay baith gaye katakshi naag sau

par zalzala nahi hila paya iski buniyaad ko

pyaar ka ek chotta sa shola bhadak raha jo
kai, deemak aur jadon ki, thokar, aandhi aur naagon ki
poorn aahuti is jwala ko arpit hai karni
pyaar aur rishton ko yahan panapna hai
aur is khandar ko ek baar phir aashiyaana banaana hai


दरारों में बरसों से भरी मै और तुम की काई 
भ्रान्ति की दीमक स्तंबों को अंदर से खोखला कर रही
अहंकार गहरी जड़ें कर बैठा बीच दीवारों में 
देहलीज़ को तोड़ दिया विपुल अपेक्षाओं की ठोकर ने 
गुस्सा बन के आंधी तोड़ गया झरोकों को 
और बिल बना के बैठ गये कटाक्षी नाग सौ 

पर ज़लज़ला नहीं हिला पाया इसकी बुनियाद को 

प्यार का एक छोटा सा शोला भड़क रहा जो  
काई, दीमक और जड़ों की, ठोकर, आंधी और नागों की 
पूर्ण आहुति इस ज्वाला को अर्पित है करनी 
प्यार और रिश्तों को यहां पनप्ना है 
और इस खण्डर को एक बार फिर आशियाना बनाना है 
 

Myriad Ramblings

© 2013; Aakaash Sehgal:

(Dashboard)