Sunday, September 21, 2014

Tera Suroor, Teri Ibadat (तेरा सुरूर, तेरी इबादत)

Tum hi to mera alam ho
is rooh ki ek hi ibadat ho

Har musafir se pucha
kya usne tujhe dekha

dar-badar dhoondte hue tum mile yahaan
per tu mujhe dekhe jaise koi anjaan

tujhse bhi pucha
ki khud ko hi khud mein tune kyon khoya

Mere deewangi pe is duniya ka hasna
anjaane kya jaane - tera mera afsana

Woh bhari mehfil mein hona
us bhid mein har pal rona

jaam ka chalkna
mere aansuon ka behna

mujhe madhu ki pyaas
madhughat ko mere honthon ki aas

nashe mein choor, is jaam mein
kabhi tum hume, to kabhi hum tumhe hain dekhte

Mera Alam, meri mohabbat
tera suroor, teri ibadat 


तुम ही तो मेरा आलम हो
इस रूह की एक ही इबादत हो 

हर मुसाफिर से पूछा 
क्या उसने तुझे देखा 

दर-बदर ढूँढ़ते हुए तुम मिले यहाँ  
पर तू मुझे देखे जैसे कोई अंजान

तुझसे भी पुछा 
कि खुद को ही खुद में तूने क्यों खोया 

मेरी दीवानंगी पे इस दुनिया का हसना 
अनजाने क्या जाने तेरा मेरा अफ़साना

वह भरी महफ़िल में होना 
उस भीड़ में हर पल रोना 

जाम का छलकना 
मेरे आंसुओं का बहना 

मुझे मधु की प्यास 
मधुघट को मेरे होठों की आस 

नशे में चूर, इस  जाम में 
कभी तुम हमें, तो कभी हम तुम्हे हैं देखते 

मेरा आलम, मेरी मोहब्बत 
तेरा सुरूर, तेरी इबादत
 

Myriad Ramblings

© 2013; Aakaash Sehgal:

(Dashboard)