Monday, October 27, 2014

Saayon Ki Kaynaat (सायों की कायनात)

Ek jalta diya bhang kar raha andheri raat
Phadakti lau mein basi saayon ki kayanat
Rang mil nritya kar rahi yeh parchaiyaan
Aur mein akela dekh raha yeh naach

Bolti nahi aur karti nahi kuch baat
Lau ke ird gird chakar rahti yeh kaat
Bujha diya aur lupt hui parchaiyaan
In saayon ko bhi hua tha kya mera ehsaas

एक जलता दिया भंग कर रहा अँधेरी रात
फड़क्ति लौ में बसी सायों की कायनात
रंग मिल नृत्य कर रही यह परछाइयाँ
और मैं अकेला देख रहा यह नाच

बोलती नहीं और करती नहीं कुछ बात
लौ के इर्द गिर्द चकर रहती यह काट
बुझा दिया और लुप्त हुई यह परछाइयाँ
इन सायों को भी हुआ था क्या मेरा एहसास

No comments :

Post a Comment

 

Myriad Ramblings

© 2013; Aakaash Sehgal:

(Dashboard)