Wednesday, August 14, 2013

Madhushala (मधुशाला)

Alfazon mei nahi itna dum
Ki bayaan kar payein kitna tumhe chahte hain hum

Jaise Meghon kay baraste paani
Ne sirf dharti ki raah jaani

Aur meelon ka faasla chal har sagar ki lehar
Chume bas samudra tat kay paer

Yaaraa-e-ulfat bas tu mehsoos kar
Saaki tere nashe mein  madhushala say guzre meri har dagar

अल्फाजों में नहीं इतना दम
की बयाँ कर पाएं  कितना तुम्हे चाहते हैं हम 

जैसे मेघों के बरसते पानी 
ने सिर्फ धरती की राह जानी 

और मीलों का फासला चल हर सागर की लहर 
चूमे बस समुद्र तट के पैर 

यारा-ऐ-उल्फत बस तू महसूस कर 
साकी तेरे नशे में मधुशाला से गुज़रे मेरी हर डगर 
 

Myriad Ramblings

© 2013; Aakaash Sehgal:

(Dashboard)